Girl in a jacket

सत्र 2023 - 24 द्वितीय बैच
ऑनलाइन प्रवेश प्रारम्भ
APPLY HERE
CMS&ED कोर्स के साथ CERTIFICATE IN FIRST AID AND PATIENT CARE ( 1 YEAR)

का कोर्स नि:शुल्क संस्थान द्वारा कराया जा रहा है |
एडमिशन के लिये सम्पर्क करें - 9565600144
C.M.S.&E.D. Check Here Fee D.M.L.T. सरकारी/गैर सरकारी चिकित्सा केंद्र में नौकरी एवं पैथोलॉजी केन्द्र संचालन (सहायक) हेतु Check Detail OUR ALLIED HEALTH COURSE www.rhmp.org.in DIPLOMA IN PHYSICIAN
ASSISTANT
सरकारी/गैर सरकारी चिकित्सा केंद्र में चिकित्सक सहायक के पद पर कार्य एवं ग्रामीण क्षेत्रों में प्राथमिक उपचार केंद्र के स्वतः संचालन हेतु Check Detail
  • आप सत्र-2022-23 द्वितीय बैच में फर्स्ट ऐड पेशेन्ट केयर के एक वर्षीय कोर्स में निःशुल्क प्रशिक्षण ले रहे है जिसकी आँनलाइन परीक्षा 9 अक्टूबर 2023 से 12 अक्टूबर 2023 तक आयोजित होना सुनिश्चित है।अतः आप अपनी परीक्षा की तैय री करते रहे एंव संस्थान के कार्यालय एंव संस्थान की रजिस्टर्ड वेबसाइट www.cmseddelhi.in के सम्पर्क में बने रहें। |
  • अंकपत्र एवं प्रमाणपत्र हेतु सूचना - -सत्र-2022-2023 ( द्वितीय बैच )CMS&ED COURSE की जून माह 2023 में आयोजित वार्षिक परीक्षा का परिणाम घोषित किया जा चुका है, जिसका अंकपत्र एवं प्रमाणपत्र संस्थान के कार्यालय से वितरित किया जा रहा है ।आप संस्थान के कार्यालय पर स्वंय उपस्थित होकर (अपने आधार कार्ड या संस्थान द्वारा जारी पहचान पत्र के साथ) अपना अंकपत्र एवं प्रमाणपत्र प्राप्त कर सकतें हैं। जिन छात्र-छात्राओं ने अपनी बकाया फीस जमा नहीं है संस्थान उनका अंकपत्र एवं प्रमाणपत्र उपलब्ध कराने में असमर्थ रहेगा | अतः आप अपनी बकाया फीस अवश्य जमा कर दे जिससे संस्थान अंकपत्र एवं प्रमाण पत्र उपलब्ध करा सके |
  • ONLINE CLASS TIMING - आपको सूचित किया जाता है कि (CMS&ED,PHYSICIAN ASSISTANT,FIRST AID PATIENT CARE) की ऑनलाइन क्लास 02:00 PM- 04:00PM तथा D.M.L.T की ऑनलाइन क्लास (03:00PM TO 04:00PM) संस्थान द्वारा संचालित की जाती है |
  • संस्थान द्वारा भारत के ग्रामीण क्षेत्रों में “राष्ट्रीय स्वास्थ्य समस्याओं को कम करने हेतु”संचालित ग्रामीण रोग नियंत्रण एवं रोकथाम जागरूकता कार्यक्रम के अंतर्गत, संस्थान से CMS & ED, फिजिशियन असिस्टेंट, RHMP, RDCP कोर्स कर रहे अथवा कोर्स कर चुके लोगो को ग्रामीण क्षेत्रों में प्राथमिक स्तर पर विभिन्न बीमारियों की पहचान रोकथाम एवं प्राथमिक उपचार हेतु विभिन्न बीमारियों की ऑनलाइन/ऑफलाइन माध्यम से आवश्यक जानकारियां दी जा रही है | नोट- इच्छुक लोग ऑनलाइन/ऑफलाइन क्लास हेतु निःशुक्ल ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन www.cmseddelhi.in/online-offline-class-form करा सकते है |

    डिप्लोमा कोर्स से सम्बन्धित आवश्यक जानकारी

    COMMUNITY MEDICAL SERVICE & ESSENTIAL DRUGS (CMS&ED)

    • CMS&ED डिप्लोमा कोर्स क्या है?

    विश्व स्वास्थ्य संगठन (W.H.O.) की अवधारणा के अनुसार प्रत्येक मनुष्य का स्वास्थ्य बनायें रखना ही हमारा मुख्य उद्देश्य है किन्तु हमारे देश में ग्रामीण क्षेत्र में आकस्मिक होने वाली दुर्घटनाओं में दुर्घटनाग्रस्त व्यक्ति तथा अचानक बिमार व्यक्ति को तत्काल प्राथमिक चिकित्सा नही मिलने के कारण उनकी मृत्यु हो जाती है, अथवा गम्भीर स्थितियों का सामना करना पड़ता है इसलिए विश्व स्वास्थ्य संगठन (W.H.O.) द्वारा 1978 में ग्रामीण क्षेत्रों में प्राथमिक उपचार को बेहतर बनाने के लिए (CMS&ED) (Community Medical Service & Essential Drugs)डिप्लोमा कोर्स के प्रशिक्षण हेतु अनुमोदन दिया गया एंव देश की माननीय सर्वोच्च न्यायलय (Suprime Court of India) के आदेश संख्या (152 of 1994 Decided- 14/02/2003) के क्रम में CMS&ED डिप्लोमा धारकों को ग्रामीण क्षेत्रों में प्राथमिक उपचारक के रुप में प्राथमिक चिकित्सा देने हेतु महत्वपूर्ण दिशा- निर्देश जारी किया गया है। CMS&ED डिप्लोमा धारक विश्व स्वास्थ संगठन (W.H.O) द्वारा अनुमोदित एलोपैथिक की 42 मेडिसिन का उपयोग करते हुए ग्रामीण क्षेत्रों में प्राथमिक उपचार कर सकतें हैं।

    माननीय सुप्रीम कोर्ट द्वारा C.M.S.& E.D धारक को ग्रामीण क्षेत्र में प्राथमिक उपचार देने हेतु दिये गये दिशा-निर्देश – Read More

    • CMS&ED डिप्लोमा कोर्स की अवधि -

    CMS&ED डिप्लोमा कोर्स की अवधि 18 माह यानि 1 1/2 वर्ष की होती है। Community Medical Service (One Year) & Essential Drugs (6th Month) Complete 18 Month

    • CMS&ED डिप्लोमा कोर्स में प्रवेश लेने हेतु आवश्यक दस्तावेज -

    • हाई-स्कूल का अंकपत्र व प्रमाण-पत्र की स्वप्रमाणित छायाप्रति जमा करें।
    • आधार कार्ड की फोटोकाँपी जमा करें। (स्वप्रमाणित छायाप्रति)
    • पासपोर्ट साइज की दो कलर फोटो जमा करें।

    • CMS&ED डिप्लोमा कोर्स करने के लिए योग्यता -

    • CMS&ED कोर्स करने के लिए छात्र को हाईस्कूल पास होना चाहिए। यदि आप सांइस स्ट्रीम (जीव विज्ञान) से 12वी पास कियें हैं तो आपके लिए ज्यादा फायदेंमंद होता हैं।
    • यदि आपने किसी प्रकार की डिग्री हासिल की है, या फिर आप मेडिकल प्रोफेशनल है और ऐलोपैथिक मेडिसिन से प्रैक्टिस करना चाहतें हैं तो भी इस कोर्स को कर सकतें हैं।
    • CMS&ED कोर्स को करने के लिए आयु सीमा निर्धारित नही है। आप इस कोर्स को करके ग्रामीण क्षेत्र में प्राइमरी हेल्थ केयर सेंटर खोलकर करियर की शुरुआत कर सकतें हैं।

    डिप्लोमा कोर्स से सम्बन्धित अधिक जानकारी- Read More

    fee-structure
    CMS&ED डिप्लोमा कोर्से की फीस (1 अप्रैल 2022 से)|Check Detail

    Jamb-3
    CMS&ED कोर्स में कौन-कौन से विषय पढ़ाये जातें है?Check Detail

    first-aid-box-open-filled-medical-supplies-white-background-43462848
    प्राथमिक स्वास्थ्य उपचार हेतु ‘‘विश्व स्वास्थ्य संगठन” (W.H.O.) द्वारा स्वीकृत एलोपैथिक दवाओं की सूची Check Detail

    NITIE-exam
    CMS&ED कोर्स में कितनी बार परीक्षा देनी होती है? Check Detail

    C.M.S. & E.D. तथा Physician Assistant (चिकित्सक सहायक) दो वर्षीय एवं “ फर्स्ट ऐड एण्ड पेशेन्ट केयर “का एक वर्षीय (BSS BOARD) का कोर्स करने के उपरान्त टेलीमेडिसिन (ई-क्लिनिक) एवं प्राथमिक उपचार हेतु रजिस्ट्रेशन तथा अन्य कार्य के बारे में

    Under the Guidelines of Indian Medical Council(Professional Conduct, Etiquette and Ethics) Telemedicine Regulations 2020. passed by the Govt. of India.

    • ग्रामीण / शहरी क्षेत्रों में संबंधित जिले के मुख्य चिकित्सा अधिकारी से अन्नापत्ति प्रमाण पत्र (N.O.C.)प्राप्त कर माननीय सुप्रीम कोर्ट द्वारा दिए गए दिशा-निर्देश के अनुसार प्राथमिक उपचार केंद्र पर प्राथमिक उपचारक के रूप में कार्य कर सकते हैं।
    • सरकारी / गैर सरकारी चिकित्सा केंद्र / वेलनेस सेन्टर (Telemedicine) में स्वास्थ्य कर्मी के पद पर कार्य कर सकते हैं।
    • फर्स्ट ऐड पैरामेडिकल काउंसिल ऑफ़ इंडिया दिल्ली से रजिस्ट्रेशन कराकर रूरल टेलीमेडिसिन ई क्लिनिक एण्ड फर्स्ट ऐड प्रोवाइडर सेन्टर का संचालन फर्स्ट ऐड प्रोवाइडर एवं टेलीमेडिसिन ई क्लिनिक सहायक के रूप में कर सकते है |

    टेलीमेडिसिन को भारत सरकार द्वारा दी गई कानूनी मान्यता के बारे में-

    भारत सरकार ने भारतीय आयुर्विज्ञान परिषद(Indian medical Council) 1956 के अधिनियम का इस्तेमाल करते हुए Indian Medical Council (Professional Conduct, Etiquette, and Ethics) Regul., 2002 भारतीय आयुर्विज्ञान परिषद (व्यवसायिक आचरण शिष्टाचार एवं नैतिकता) विनियमावली 2002 में 25 मार्च 2020 को संशोधित करने के लिए नए अधिनियम बनाये |



    ग्रामीण रोग नियंत्रण, रोकथाम एवं जागरुकता कार्यक्रम (R.D.C.P.) का उद्देश्य -

    जन-समुदाय को प्रदान की जाने वाली स्वास्थ्य देखभाल का असमान बँटवारा होना देशवासियों के स्वास्थ्य स्तर के कमजोर होने का एक प्रमुख कारण है | भारत गाँवों का देश है तथा यहाँ की लगभग 80 प्रतिशत जनसंख्या गाँवों में तथा 20 प्रतिशत जनसंख्या शहरी क्षेत्रों में निवास करती है।

    Optimized by Optimole Admission enquiry